बड़ी फ़िक्र थी

कविता- बड़ी फ़िक्र थी
——————————
बड़ी फ़िक्र थी उसे मेरी,
सौ बार समझाती थी,
कालेज समय से आया करो,
कमियाँ रोज बताया करती थी|

नाखून बड़े हैं बाल बड़े,
कालर इतना गंदा है,
जगह देख क्यों नहीं बैठते
हाथ तुम्हारा साफ नहीं है|

शर्ट में कैसे धूल लगी,
क्रोध में आकर चिल्लाती थी,
बटन खुली हैं हीरो बनोगे,
खुली बटन बंद करती थी|
खूब खर्च करो पैसा,
खुद की मेहनत के थोड़े ही हैं
मुझसे रोज ही लड़ती थी,
बेपनाह मोहब्बत करती थी|

नाखून मेरा बाल मेरा,
कालर साफ भी होता था,
इसलिए गंदा कहती थी,
छू छू के बातें करती थी|

सबसे लड़ती मेरे लिए ,
मेरी बुराई न सुनती थी,
मै खुश रहूं, हर उपाय करती
कभी कॉपी भी लिख देती थी|
—————————————
***✍ऋषि कुमार “प्रभाकर”—-


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

10 Comments

  1. Suman Kumari - October 13, 2020, 9:28 am

    सुन्दर रचना

  2. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - October 13, 2020, 9:42 am

    बहुत खूब

  3. Geeta kumari - October 13, 2020, 10:00 am

    बहुत ही सुन्दर रचना है ऋषि जी बहुत ही भावपूर्ण और बिना किसी त्रुटि के । “खुली बटन बंद करती थी|खूब खर्च करो पैसा,”
    बस, “खुली बटन” के स्थान पर “खुले बटन” लिखना था … बाकी सब बढ़िया

  4. Pragya Shukla - October 13, 2020, 4:29 pm

    कुछ सुधार आया है कुछ कमियां रह गई हैं जो सुधर जाएगी..
    जल्दी सीख रहे हो आप

  5. Anuj Kaushik - October 13, 2020, 11:12 pm

    सुन्दर रचना

Leave a Reply