बाकी

कोई तो कहानी है अधूरी जो लिखनी बाकी है,
चन्द पन्नों की किताब आज भी बिकनी बाकी है।।
राही अंजाना

Related Articles

Responses

New Report

Close