बात इक शुरुआत

आओ ना चलो, बात करते है,
ये खामोशी तुम्हारी जान ही ना लेले
आओ ना चलो, बात करते है
एक अरसा हुआ तुमको देखे हुए,
आओ ना चलो, मुलाकात करते है,
आओ ना चलो, बात करते है,
बाते दिल की तुम करना, मैं दिल से सुनूँगा,
राज दिल के तुम कहना, मैं राज ही रखूँगा,
क्यू ना आज ओर अभी से शुरूवात करते है
आओ ना चलो, बात करते है,
बात करने से ही, बात बन जाती है
चोट पत्थर सी हो,तो भी पिघल जाती है,
फिर भी ना जाने क्यू,बात से डरते है
आओ ना चलो, बात करते है
आओ ना चलो, बात करते है
✍️ Rinku Chawla
#shushantsingh incident


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

मुस्कुराना

वह बेटी बन कर आई है

चिंता से चिता तक

उदास खिलौना : बाल कबिता

14 Comments

  1. Geeta kumari - August 14, 2020, 6:14 pm

    बहुत सुंदर

  2. मोहन सिंह मानुष - August 14, 2020, 6:16 pm

    अतिसुंदर

  3. aakashwaani lko - August 14, 2020, 6:20 pm

    Nice platform

  4. Prayag Dharmani - August 14, 2020, 7:21 pm

    Nice Poetry

  5. Satish Pandey - August 14, 2020, 7:58 pm

    वाह वाह

  6. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - August 15, 2020, 6:26 am

    Atisunder

  7. Pragya Shukla - August 15, 2020, 11:58 pm

    good

Leave a Reply