बाबूल

बाबूल

छोड चली मैं बाबूल को
अनजान डगर सा लगता है
नयन भरे हैं नीर मेरे
सब अपने पराये लगते हैं ।

अधिकार खत्म कर जा रही
ससुराल का दामन पकडने
इतनी रूहासी हो गयी हूॅ
मन बेचैन सा बहुत लगता हैं ।

खत्म हुयी सब लडकपन
घर बसाने जा रही हूॅ
अपने बगिया को भूलकर
चिडिया बनने जा रही हूॅ ।

माँ बाबा को भूलकर
दूर उनसे मैं जा रही हूॅ
नयनन में ऑसू भरकर
रिवाज मैं निभा रही हूॅ ।।

महेश गुप्ता जौनपुरी
मोबाइल – 9918845864

Related Articles

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

Responses

New Report

Close