बेहरुपीये

लोग बन कर फिरते है बेहरुपीये
ताकि तुमको छल सकें
कुछ रास्ते बिन काँटों के भी छोड़ दो
जिनपर अनजान राही चल सकें

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

9 Comments

  1. nitu kandera - October 5, 2019, 5:09 pm

    वाह

  2. Ishwari Ronjhwal - October 6, 2019, 8:47 pm

    Nice

  3. Poonam singh - October 6, 2019, 8:54 pm

    Nice

  4. NIMISHA SINGHAL - October 6, 2019, 9:50 pm

    सही बात

  5. महेश गुप्ता जौनपुरी - October 7, 2019, 11:13 am

    वाह बहुत सुंदर

  6. Reena Sudhir - October 7, 2019, 8:20 pm

    Wah

  7. Ujwal Dulgach - October 8, 2019, 4:11 pm

    Nice

  8. Sudhir Santaram - October 8, 2019, 4:16 pm

    Wah

Leave a Reply