भाई खुश हो

कविता-भाई खुश हो
————————–
भाई खुश हो,
आज तुम्हारा जन्मदिन है,
मैं तो तुमसे दूर हूं
मेरा आशीष तुम्हारे साथ है,
प्यार मिले ,
सत्कार मिले,
सम्मान मिले,
मिले जगत से –
खुशियों का सार मिले,
खुदा से बस इतना कहती हूं
हर सुख तुम्हें आज मिले,
हर बाधा तुमसे दूर रहे-
बनो सदा हिमगिरी जैसे
रक्षक बनकर खड़े रहो,
विशाल बनो अंबर जैसे
सूरज जैसा तेज रखो,
क्या दू गिफ्ट तुम्हें
कुछ समझ नहीं आता है ,
प्यार भरे आशीष को
शुभ संदेशों को भाई स्वीकार करो,
साहस रखो सैनिक जैसे
विचार रखो गांधी जैसे,
राह चुनो बुद्ध की जैसी,
गर ज्ञानी ,भारत शुभचिंतक बनना हो तो
बनाना विवेकानंद के जैसे,
खूब पढ़ो,
सद्गुण संस्कार रखो,
नैतिक आदर्शों से भरे रहो,
सर्वज्ञान संपन्न बनो,
मम्मी का आज्ञाकारी पुत्र बनो,
एक दिन-
बनो बाग के माली तुम,
देश समाज कुल परिवार की
अच्छे से करो रखवाली तुम,
स्वस्थ रहो, मस्त रहो ,खुशहाल रहो,
जहां रहो ,शीतल छाया चांद की जैसा लिए रहो,
—————————————————-
✍️-ऋषि कुमार प्रभाकर–


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

3 Comments

  1. Geeta kumari - January 19, 2021, 7:05 pm

    आज तुम्हारा जन्मदिन है,
    मैं तो तुमसे दूर हूं मेरा आशीष तुम्हारे साथ है,
    ____कवि ऋषि जी द्वारा प्रस्तुत अति सुन्दर कविता ,एक बहन की, उसके भाई के जन्म दिन पर बहुत सुंदर आशीष देती हुई अति उत्तम रचना

  2. Satish Pandey - January 19, 2021, 10:33 pm

    बहुत सुंदर प्रस्तुति ऋषि। खूब लिखते रहें, अति सुन्दर

  3. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - January 20, 2021, 11:21 am

    बहुत सुंदर

Leave a Reply