भीड़

जमाने में लोगों की जब से भीड़ जमने लगी,

लोगों के बीच अपनेपन की कमी खलने लगी,

बन तो गए हर दो कदम पर मकाँ चार दीवारों के,

मगर जहाँ देखूं मुझे घरों की कमी खलने लगी।।
राही (अंजान)

Related Articles

रौशनी की आस

ज़िंदगी की तपिश बहुत हमने सही, ये तपन अब खलने लगी। रौशनी की सदा आस ही रही, रौशनी की कमी अब खलने लगी। बहुत चोटें…

कोरोनवायरस -२०१९” -२

कोरोनवायरस -२०१९” -२ —————————- कोरोनावायरस एक संक्रामक बीमारी है| इसके इलाज की खोज में अभी संपूर्ण देश के वैज्ञानिक खोज में लगे हैं | बीमारी…

Responses

New Report

Close