मकरसंक्रांति आई

मकरसंक्रांति
अलग अंदाज लिए,
हर प्रान्त में,
अपनी छटा बिखेर रहा ।
सूर्य चले उत्तरायन हो
छटा नव आशा की
किरण बिखेर रहा ।
सकारात्मकता का संदेश लिए
अपनी संस्कृति, अपनी परिवेश
की झलक बिखर रहा ।
यह पर्व है धरती पुत्रों का
उनकी पौरूष, त्याग्, मेहनत की
अद्भुत गाथा बिखेर रहा ।
इस दिन को मनाने की परंपरा
आधुनिकता के दौर में भी
प्राचीन छवि को बिखेर रहा ।
पतंगो को धागे से जोर
थामें मन से हर रिश्ते की डोर
सभ्यता को सहेजने की, समझने की
जङ-चेतन की अहमियत बिखेर रहा ।


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

मुस्कुराना

वह बेटी बन कर आई है

चिंता से चिता तक

उदास खिलौना : बाल कबिता

2 Comments

  1. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - January 15, 2021, 8:10 am

    बहुत खूब

  2. Geeta kumari - January 15, 2021, 7:13 pm

    मकर सक्रांति पर बहुत सुंदर कविता

Leave a Reply