मगर कब तक!

मगर कब तक!

ღღ_कर तो लूँ मैं इन्तजार, मगर कब तक;
लौट आएगा बार-बार, मगर कब तक!
.
उसे चाहने वालों की, कमी नहीं है दुनिया में;
याद आएगा मेरा प्यार, मगर कब तक!
.
प्यार वो जिस्म से करता है, रूह से नहीं;
बिछड़कर रहेगा बे-क़रार, मगर कब तक!
.
दर्द अहसास ही तो है, मर भी सकता है;
बहेंगे आँखों से आबशार, मगर कब तक!
.
कहीं फिर से मोहब्बत, कर ना बैठे ‘अक्स’;
दिल पे रखता हूँ इख्तियार, मगर कब तक!!…..#अक्स
.

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

A CA student by studies, A poet by passion, A teacher by hobby and a guide by nature. Simply I am, what I am !! :- "AkS"

Related Posts

सुखद है मित्रों का संसार

प्यारे मित्रो

From Death 2 Life

एक राह अक्सर चलोगे

एक राह अक्सर चलोगे

14 Comments

  1. Kavi Manohar - August 24, 2016, 4:56 pm

    Beshumaar pyar kiya hamne har lamha unhe
    Nafrat se Gujarat hoga, magar kab tak

  2. Niranjan Pandey - August 24, 2016, 5:59 pm

    bahut sundar ji 🙂

  3. Vipendra Pal Singh - August 24, 2016, 9:01 pm

    nice

  4. Panna - August 25, 2016, 12:46 pm

    बहुत खूब

  5. Sridhar - August 25, 2016, 3:03 pm

    nice

  6. Neelam Tyagi - August 25, 2016, 3:55 pm

    behatreen ghazal sir

  7. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 9, 2019, 7:41 pm

    वाह बहुत सुंदर

Leave a Reply