मलिका***

जिन्हें हम प्यार करते हैं
नहीं इजहार करते हैं
देखते हैं उन्हें छुपकर
पर सामने जाने से डरते हैं
एक दिन पूँछ बैठे हम
किसी से प्यार है तुमको
वो बोले हाँ हम किसी
से किसी से प्यार करते हैं
आज तो उगलवा ही लेंगे हम
ये सोंच लिया हमने
पूँछा कौन है वो लड़की
क्या नाम है उसका ?
वो बोले:
जिसे हम प्यार करते हैं
नहीं बदनाम करते हैं
हमने बड़ी शिद्दत से
फिर पूँछा
कहाँ रहती है वो लड़की
और दिखने में है कैसी ?
वो बोले जाने कैसी है !
मुझे तो अच्छी लगती है
गोरी-सी है पतली-सी
है थोड़ी नकचिढ़ी लड़की
रहती है सीतापुर में
और करती है बी.टी.सी.
मेरे दिल की है मलिका
रोज ख्वाबों में आती है
लिखा करती है कविताएं
मुझे जी-जान से चाहे
करता हूँ बात जब उससे
तो टेसू ही बहाती है
खुद को ही अपनी वो
सौतन समझती है
अपने आप को ही वो
सौ गाली बकती है
मुझे प्यार है किसी और से
वो इस गलतफहमी में
रहती है
मेरे प्यार का वो कहाँ
एहसास करती है
ना बोलूंगा कभी उसको
कि कितना प्यार है मुझको
देखता हूँ वो कब इस
बात को जान पाती है…

Related Articles

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

Responses

  1. जिस प्रकार नायिका ने अपने नायक के बारे में बताया है और नायक की बुद्धि के व्यक्तित्व के गुणों का बखान किया है वह काबिले तारीफ है नायक के द्वारा कहे गए वचन पुरुषत्व की स्थापना करते हैं बहुत ही लाजवाब रचना
    👏👏

New Report

Close