महत्वाकांक्षा की क्षुधा

41: महत्वाकांक्षा की क्षुधा
*******************
अपनी जिद की बलि वेदी पर,
नौनिहालो को कुर्वान मत होने दो ।
अपनी महत्वाकांक्षा की क्षुधा को ,
बस शान्त रहने दो ।।
अधूरे स्वप्न अपने वंश के ,
विरासत में मत छोडो ,
उन्हें खुद से स्वप्न गढके ,
फिर उस क्षितिज की ओर बढ़ने दो ।
अपनी महत्वाकांक्षा की क्षुधा को
बस शान्त रहने दो ।।
टोका-टोकी का संबल मत दो ,
ना ही सहानुभूति की बैसाखी ,
खुद से ठोकर खाकर,
उन्हें खुद से संभलने दो ।
अपनी महत्वाकांक्षा की क्षुधा को
बस शान्त रहने दो ।।
ठोकरों से जो जख्म मिलेंगे
उनके आत्मविश्वास को पंख देगे
खुद के बनाये पंखों से,
उन्हें खुद से उङान भरने दो ।
अपनी महत्वाकांक्षा की क्षुधा को
बस शान्त रहने दो ।।
उङने के क्रम में गिरेगे,गिरकर फिर संभलगे
खुद के बनाये पथ से,खुद का जयगान करने दो ।
अपनी—–‘


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

9 Comments

  1. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - August 9, 2020, 6:59 am

    अतिसुंदर रचना

  2. मोहन सिंह मानुष - August 9, 2020, 7:17 am

    बेहतरीन प्रस्तुति

  3. Satish Pandey - August 9, 2020, 8:02 am

    बहुत खूब

  4. Geeta kumari - August 9, 2020, 8:24 am

    वाह! माता ,पिता को निज महत्वाकांक्षा बच्चों पर ना लादने की सीख देती हुई बहुत सुंदर रचना 👌

  5. Suman Kumari - August 9, 2020, 8:33 am

    बहुत बहुत धन्यवाद

  6. Ambuj Singh - August 9, 2020, 1:46 pm

    सुंदर कविता

Leave a Reply