महात्मा गाँधी

गुलामी की धांस में अत्याचारों की बांस में
देश था बिलकुल सड़ गया |
तब उठ खड़ा हुआ एक अहिंसक योद्धा,
जो लाठी लिए फिरंगी से लड़ गया |
कुचलता हुआ अंग्रेजी सरकार के इरादे,
जनक्रांति लिए वो आगे बढ़ गया |
अंग्रेज देना चाहते थे धोखा,
पर वो पूर्ण स्वराज पर अड़ गया |

बर्तानिया सरकार के खिलाफ,
शोले भड़क रहे थे हर मन में |
जलाकर विदेशी वस्तुएँ ,
आजादी की आग लगा दी हर जन में |
भारत छोड़ो आंदोलन का तूफान ऐसा चलाया,
और जोश भर दिया हर देशवासी के तन में |
बापू तुमने आजादी दिलाई,
याद रहेगा हमें पुरे जीवन में |

आजादी का सूरज उगा,
पर ग्रहण लगा बंटवारे का |
रोए बापू रोए भारत,
दुःख था छूटते अँगनारे का |
नये भारत के स्वर्णिम भविष्य के,
आँखों में तुम्हारे कई सपने थे |
पर घात लगाए क्रूर दुष्टाचारी,
नाथू राम जैसे दुश्मन अपने ही थे |

आजाद आसमान हमें दिया,
और गुलामी की जंजीरो को तोड़ चले |
खुद मरकर जीवनदान हमें दिया,
और हर मोती को एक मला में जोड़ चले |
लपेट तिरंगा झंडा शान से,
अपना विजय रथ अंतिम यात्रा की ओर मोड़ चले |
कभी ना ख़त्म होने वाले आँसू,
अब हमारी आँखों में छोड़ चले |

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

52 Comments

  1. देवेश साखरे 'देव' - September 27, 2019, 5:43 pm

    सुंदर रचना

  2. Poonam singh - September 27, 2019, 5:51 pm

    Nice

  3. NIMISHA SINGHAL - September 27, 2019, 6:31 pm

    Waah

  4. राही अंजाना - September 27, 2019, 6:56 pm

    अच्छा

  5. Nikhil Agrawal - September 27, 2019, 7:46 pm

    Nice

  6. D.K jake gamer - September 28, 2019, 3:23 am

    ज्वलंत

  7. nitu kandera - September 28, 2019, 3:30 am

    अदभुत

  8. Kandera - September 28, 2019, 7:22 am

    बहुत अच्छा

  9. Kandera Fitness - September 28, 2019, 7:25 am

    Nice

  10. sandhya Singh - September 28, 2019, 1:26 pm

    Jai hind

  11. sandhya Singh - September 28, 2019, 1:27 pm

    Kya khub likha h aapne babu ji k bare me is desh ekta k bare me

  12. sandhya Singh - September 28, 2019, 1:29 pm

    Shabdo ka bahut hi sunder upyog kiya h aapne is kavya me

  13. Kandera - October 1, 2019, 11:18 am

    Good

  14. Ishwari Ronjhwal - October 1, 2019, 4:29 pm

    Wah bahut sunder

  15. Ishwari Ronjhwal - October 1, 2019, 4:29 pm

    Itni sunder rachana

  16. Ishwari Ronjhwal - October 1, 2019, 4:29 pm

    Awsm

  17. Reena Sudhir - October 1, 2019, 5:23 pm

    Wah

  18. Reena Sudhir - October 1, 2019, 5:23 pm

    Bahut khub

  19. Reena Sudhir - October 1, 2019, 5:24 pm

    Great

  20. Vansh Shah - October 1, 2019, 5:33 pm

    बहुत सुंदर

  21. Vansh Shah - October 1, 2019, 5:33 pm

    nice

  22. Vansh Shah - October 1, 2019, 5:34 pm

    very. good

  23. Vansh Shah - October 1, 2019, 5:40 pm

    100 lid

  24. Vansh Shah - October 1, 2019, 5:40 pm

    गजब

  25. Vansh Shah - October 1, 2019, 5:47 pm

    बहुत अच्छा

  26. Vansh Shah - October 1, 2019, 5:49 pm

    जय हिन्द 🙋

  27. Vansh Shah - October 1, 2019, 5:50 pm

    👏

  28. Vansh Shah - October 1, 2019, 5:51 pm

    👏👏👏👏👏👏👏 👌👌👌

  29. sudesh ronjhwal - October 1, 2019, 10:11 pm

    बहुत ही सुन्दर वर्णन किया है

  30. sudesh ronjhwal - October 1, 2019, 10:12 pm

    👍

  31. Sudesh Ronjhwal - October 1, 2019, 10:38 pm

    Well done

  32. Sudesh Ronjhwal - October 2, 2019, 4:58 pm

    Wah

Leave a Reply