महात्मा गांधी

महात्मा गांधी

महात्मा गांधी
——————
🙈🙉🙊

बाहर से गंभीर धीर,👴
जज्बों से थे तूफानी।🌋

अंग्रेजों के पैर उखाड़ गए,
वो नाम था गांधी।🤓

अल्पाहारी, शाकाहारी, 🌿🌾
सत्य निष्ठ, अवतारी,👼

बैरिस्टर से साधु बन गए,
मानवता के पुजारी ।👤

आजादी के आंदोलन में थी,
उनकी भागीदारी ।👥👥👥👥

सत्य अहिंसा पथ पर चलना,
👣👣 माना जिम्मेदारी।

चंपारण ,खेड़ा, के नायक,
गांधी थेआंदोलनकारी ।👀

जेल भरो आंदोलन की ,
कर डाली थी तैयारी ।
👩‍👧‍👦👩‍👧‍👧👨‍👨‍👧‍👧👭👬👫👨‍👨‍👦‍👦👨‍👧‍👦👨‍👧‍👧👨‍👩‍👧

अपनी जान की परवाह ना की,
देश की ली जिम्मेदारी।🏋️

दांडी मार्च के महानायक ने,
दी थी गिरफ्तारी🥨

स्वदेशी वस्तुएं सभी थी ,
उन्हें बहुत ही प्यारी ।🏝️

असहयोग आंदोलन की भी,
आ गई थी अब बारी।
🔥🔥
दया दिलों में भरना,
इसमें भी थी हिस्सेदारी।
👧👦👩‍🎓👩

आजादी की अलख जगा कर ,
चेताये नर- नारी ।
🌋
चरखा चलाते ज्ञान बांटते,
देश पे थे बलिहारी ।,🇮🇳

सादा जीवन उच्च विचार,
गांधीजी धर्माचारी।👳

राष्ट्रपिता वो बापू थे,
धोती और सोटा धारी ।👣

अंग्रेजों को उडा गए ,
गांधी जी थे वो आंधी।🌪️🌀

निमिषा सिंघल🌞

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

13 Comments

  1. राम नरेशपुरवाला - September 27, 2019, 6:01 pm

    वाह

  2. देवेश साखरे 'देव' - September 27, 2019, 7:10 pm

    सुन्दर रचना

  3. Nikhil Agrawal - September 27, 2019, 7:45 pm

    Nice

  4. राही अंजाना - September 27, 2019, 9:19 pm

    वाह

  5. D.K jake gamer - September 27, 2019, 9:20 pm

    वाह

  6. ashmita - September 28, 2019, 7:19 pm

    Nice

Leave a Reply