महापर्व

विविध आबम्बरो से दूर, श्रद्धा-आस्था से सरावोर
महापर्व है छट्ठ, जन-गण है उपासक, आराध्य है दिनकर!

Related Articles

सूर्य उपासना

हम आधुनिक होते जा रहे हमारी आस्था आज भी वही हम उपासको के लिए सूर्य परिक्रमण कर रहा पृथ्वी है स्थिर। दर्शाता रह पर्व लोक-आस्था…

आस्था के कमल

आस्था के कमल ——————– प्रेम और विश्वास के दरिया में ही खिलते हैं आस्था के कमल। तुम खरे उतरना इस विश्वास पर ना मुरझा पाए…

Responses

New Report

Close