माँ

इस काँटो भरी दुनिया में माँ
आपका ही तो सहारा है
इस तपती जलती धूप में माँ
आपका ही आँचल ठंडा पाया है
दौड़ भाग की इस जिंदगी में
एक आपने ही तो संभाला है
चाहें जितनी भी मुसीबत हो माँ
आपने ही तो निकाला है
दुनिया वालों की बलाओं को माँ
आपने ही झाड़ फूक निकाला है
अपने बच्चों की हर पल चिंता कर
ईश्वरीय आशीष भी दिलाया है।।

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

By Neha

11 Comments

  1. Kanchan Dwivedi - September 8, 2019, 10:06 am

    Good

  2. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 8, 2019, 10:07 am

    वाह बहुत सुंदर रचना ढेरों बधाइयां

  3. देवेश साखरे 'देव' - September 8, 2019, 10:09 am

    Nice one

  4. Kandera - September 8, 2019, 10:35 am

    wah

  5. DV - September 12, 2019, 5:26 pm

    sundar rachna

Leave a Reply