मां शारदे स्तुति

🌹🌹🌹🌹🌹🌹
वीणावादिनी मां पद्मनिलया,
ज्ञान का दीप जला देना,
तिमिर मिटे अज्ञानता का,
मां पथ आलोकित कर देना।
🌹🌹🌹🌹🌹🌹
श्वेतवस्त्रा मां सुरवंदिता,
आन कंठ सुर भर देना,
शीश नवाऊं तेरे चरणों में,
वरद हस्त सिर रख देना।
🌹🌹🌹🌹🌹🌹
रहूं सदा कर्तव्य पथअग्रसर,
मां सत्य मार्ग दिखला देना,
विनती सुनो हे! मातु हमारी,
साहस,शील हिय भर देना।
🌹🌹🌹🌹🌹🌹
स्वरचित मौलिक रचना
✍️…अमिता गुप्ता

Related Articles

Responses

      1. बहुत ही खूबसूरत पंक्तियां लिखी हैं आपने अमिता जी

New Report

Close