मानुष जनम

सिया राम जी केॅ चरण
हमरा मन में रमल।
जे हम हेती करिया भौरा
पुष्प पराग मुख भरल ।।
चरण छुवि हम नित नित
जनम कृतारथ करल।
विनयचंद मानुष जनम
नाम रटन हित धरल।।


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

2 Comments

  1. Geeta kumari - February 4, 2021, 4:07 pm

    जय श्री राम 🙏

  2. Satish Pandey - February 5, 2021, 9:19 am

    बहुत खूब

Leave a Reply