मुक्तक

दर्द तन्हा रातों की कहानी होते हैं!
तड़पाते हालात की रवानी होते हैं!
कभी होते नहीं जुदा यादों के सिलसिले,
दौरे-आजमाइश की निशानी होते हैं!

मुक्तककार -#मिथिलेश_राय

Related Articles

मुक्तक

दर्द तन्हा रातों की कहानी होते हैं! गुजरे हुए हालात की रवानी होते हैं! होते नहीं हैं रुखसत यादों के सिलसिले, दौरे-आजमाइश की निशानी होते…

तन्हा-तन्हा

दिल खाली-खाली क्यू है शाम भी क्यू तन्हा-तन्हा लागे है । बिन कारन, क्यू बेचैनी का साया है यह कैसा उलझन वाला पल आया है…

Responses

New Report

Close