मुक्तक

प्यार का इज़हार होने दीजिए।
गुल चमन गुलजार होने दीजिए।
खास हो एैसा ही, कोई पल दे दो,
वक्त को हम – राज होने दीजिए।

योगेन्द्र कुमार निषाद
घरघोड़ा ,छ०ग०

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

3 Comments

  1. Panna - March 10, 2018, 11:35 am

    नायाब प्रयास योगी जी

  2. Yogi Nishad - March 10, 2018, 12:16 pm

    बहुत बहुत धन्यवाद आदरणीय

Leave a Reply