मुक्तक

0

तुम जो मुस्कुराती हो नजरें बदलकर!
नीयत पिघल जाती है मेरी मचलकर!
चाहत धधक जाती है जैसे जिगर में,
हर बार जुस्तजू की आहों में ढलकर!

मुक्तककार- #मिथिलेश_राय

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Lives in Varanasi, India

6 Comments

  1. Anshita Sahu - May 19, 2018, 7:13 am

    nice

  2. राही अंजाना - May 19, 2018, 7:30 am

    Waah

  3. Neha - May 19, 2018, 10:41 am

    Very nice sir

  4. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 9, 2019, 10:05 pm

    वाह बहुत सुंदर

Leave a Reply