मुक्तक

बेवफाओं की कोई सूरत क्या होती है?
नाखुदाओं की कोई मूरत क्या होती है?
जब कौम की जागीरों में बँटा है आदमी,
इंसानियत की कोई जरुरत क्या होती है?

मुक्तककार- #मिथिलेश_राय

Related Articles

मुक्तक

बेवफाओं की कोई सूरत क्या होती है? नाखुदाओं की कोई मूरत क्या होती है? जब कौम की जागीरों में बँटा है आदमी, इंसानियत की कोई…

मुक्तक

बेवफाओं की कोई सूरत क्या होती है? नाखुदाओं की कोई मूरत क्या होती है? जब कौम की जागीरों में बँटा है आदमी, इंसानियत की कोई…

मुक्तक

बेवफाओं की कोई सूरत क्या होती है? नाखुदाओं की कोई मूरत क्या होती है? जब कौम की जागीरों में बँटा है आदमी, इंसानियत की कोई…

मुक्तक

बेवफाओं की कोई सूरत क्या होती है? नाखुदाओं की कोई मूरत क्या होती है? जब कौम की जागीरों में बँटा है आदमी, इंसानियत की कोई…

Responses

New Report

Close