मुक्तक

कहीं तेरी बेवफाई से मैं बदल न जाऊँ?
कहीं इंतजार की ज्वाला से मैं जल न जाऊँ?
मुझे दर्द सताता है हर वक्त तन्हाई में,
कहीं सब्र के चट्टानों से मैं फिसल न जाऊँ?

मुक्तककार- #मिथिलेश_राय

Related Articles

मुक्तक

तेरी बेवफाई से कहीं मैं बदल न जाऊँ? इंतजार की ज्वाला से कहीं मैं जल न जाऊँ? मुझे दर्द डराता है हर वक्त तन्हाई में,…

Responses

New Report

Close