मुक्तक

मेरे दर्द को तेरा अफ़साना याद है।
मेरे ज़ख़्म को तेरा ठुक़राना याद है।
ख़ींच लेती है तलब मुझको पैमाने की-
हर शाम साक़ी को मेरा आना याद है।

मुक्तककार- #मिथिलेश_राय

Related Articles

मुक्तक

मेरे दर्द को तेरा अफ़साना याद है। मेरे ज़ख्म को तेरा ठुकराना याद है। लबों को खींच लेती है पैमाने की तलब- हर शाम साक़ी…

Responses

New Report

Close