मुखोटे

जीत हार चलते रहते,
लोग चेहरे बदलते रहते।
मुखोटे लगाकर मिलते एक दूसरे से,
बगल में छुरियां दबाए रखते।
निमिषा सिंघल


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

7 Comments

  1. Anita Mishra - February 13, 2020, 3:50 pm

    Good

  2. Kanchan Dwivedi - February 13, 2020, 4:32 pm

    Truth of the day

  3. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - February 13, 2020, 8:12 pm

    Nice

  4. Priya Choudhary - February 16, 2020, 5:17 pm

    वाह

Leave a Reply