मुन्तजिर है तेरा

हो सके तो फिर कभी लौट कर आना

पलकें बिछाये आज भी मुन्तजिर है तेरा।

Related Articles

Responses

+

New Report

Close