मुस्कानों के पीछे

रोता हुआ ही मिले, हर टूटा इंसान
हमें भी गम छिपाने आते हैं, मुस्कानों के पीछे…

Related Articles

Responses

    1. समीक्षा और सराहना हेतु आपका हार्दिक धन्यवाद 🙏
      उत्साह वर्धन के लिए आपका बहुत बहुत आभार

New Report

Close