मेरा इस दुनिया मे कोई ना रहा !

मेरा इस दुनिया मे कोई ना रहा ,
मै बेसहारा हो गया।
जो मुझे रास्ते दिखा रहे थे ,
वही पराया हो गया।।
कैसे चलुँ,—–कैसे चलूँ
मै तो बेसहारा हो गया,
ऐ जमाने ना हँसों मेरी गरीबी की रूख से तुझे ही तो चाहा तु ही पराया हो गया।।
ज़्योति
मो न० 9123155481

,

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

हँसो

हँसो, के मैं जहाँ जा रहा, वहां तुम्हारी सोच भी नहीं जाती | हँसो, के मेरी आँखें जो सपने संजोए हैं, तुम्हारी देख भी नहीं…

गरीबी

गरीबी एक एहसास है, इसमें एक मीठी सी दर्द है, रोज़ की दर्द में भी संतोष छिपी है, फकीरी में अमीरी का एहसास है, शायद…

Responses

New Report

Close