मेरा मध्यप्रदेश

जहां स्वयं भूतनाथ विराजे,महांकाल के वेश में,
कण-कण में सुंदरता झलके मेरे मध्यप्रदेश में,
जीवनदायिनी रेवा बहती,विंध्याचल विराट है;
रत्न अमोल भरे अपार है, यह खनिज सम्राट है।
भीमबेटका खजुराहो से,संस्कृति की पहचान है;
मोक्षदायिनी क्षिप्रा रूपी,मिला हमें वरदान है;
जहां मन मोहिनी सुगंध भरी हो,
चंदन के अवशेष में;
महाकाल रक्षक है जिसके,आइए इस प्रदेश में।

कवि:- सुरेन्द्र मेवाड़ा ‘सरेश’
आयु:- 14 वर्ष

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

11 Comments

  1. NIMISHA SINGHAL - October 9, 2019, 9:48 am

    Madhya Pradesh Ko salaam

  2. देवेश साखरे 'देव' - October 9, 2019, 9:53 am

    सुन्दर विश्लेषण

  3. Poonam singh - October 9, 2019, 2:13 pm

    Bahut khub

  4. Poonam singh - October 9, 2019, 2:19 pm

    Sundar

  5. राही अंजाना - October 10, 2019, 9:42 am

    वाह

  6. राम नरेशपुरवाला - October 10, 2019, 6:01 pm

    Badhiya

Leave a Reply