मेरी प्यारी Mam Neha

दिलों में बस जाए तो महोब्बत है वो,
कभी पत्नी-धर्म तो कभी बहू का कर्तव्य निभाती है वो,
कभी बहिन तो कभी ममता की मूरत है वो,
उनके आँचल में हैं से चाँद सितारे,
कभी सहेली बन कर हर दर्द -ग़म को छुपा लेते सीने में,
सब्र की मिसाल, हर रिश्ते की ताकत है वो,
कौन कहता हैं कि वो कमज़ोर है।
आज भी उनके हाथ में अपने घर को चलाने की डोर होती है।
वो तो दफ्तर भी जाते हैं, और अपने घर परिवार को भी संभालते हैं।
हौंसले और हिम्मत की पहचान है वो,
अपने हौसले से तक़दीर को बदलने की ताकत रखते है वो,
वो और कोई नहीं मेरी प्यारी Mam Neha है,


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

5 Comments

  1. Satish Pandey - March 19, 2021, 6:08 pm

    बहुत खूब

  2. Rakesh Saxena - March 19, 2021, 7:27 pm

    Bahut sundar

  3. Geeta kumari - March 19, 2021, 9:01 pm

    अपनी शिक्षिका के लिए प्रेम पूर्ण रचना, वाह

  4. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - March 21, 2021, 9:54 pm

    बहुत खूब

  5. Pragya Shukla - March 31, 2021, 10:07 pm

    अपनी शिक्षिका के जीवन शैली पर आधारित रचना

Leave a Reply