मेरे मन का मोती…

मेरे मन का मोती,
मैं तुझको अर्पण कर जाऊं।
मेरे राम मेरे श्याम…
प्रभु मैं जपु तेरा नाम पल पल,
तुझमें ही खो जाऊं ।
मेरे मन का मोती ,
मैं तुझको अर्पण कर जाऊं।
मेरे राम मेरे श्याम ।
सुध लो प्रभु दुनिया की ,
यह नैन भी तरस गए ।
किस और किनारा है मेरा ,
बस नौका पार लगा दो ।
मेरे राम मेरे श्याम….
भूलूं कभी न तेरा नाम ,
यह अरदास जगा दे ।
तेरे से ही हो रौशन दुनिया मेरी,
तेरे पर ही वारी जाऊं।
मेरे मन का मोती मैं ,
तुझको अर्पण कर जाऊं।
मेरे राम मेरे श्याम….


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

10 Comments

  1. Suman Kumari - September 14, 2020, 11:39 pm

    सुन्दर अभिव्यक्ति

  2. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - September 15, 2020, 9:46 am

    अतिसुंदर

  3. Geeta kumari - September 15, 2020, 12:35 pm

    सुन्दर भाव

  4. Pragya Shukla - September 15, 2020, 3:39 pm

    जय श्री राधे श्याम

  5. मोहन सिंह मानुष - September 16, 2020, 11:22 pm

    भक्ति भाव से प्रेरित बहुत सुंदर पंक्तियां

  6. Pratima chaudhary - September 17, 2020, 8:42 am

    हार्दिक धन्यवाद

Leave a Reply