मेरे हाथ

मेरे हाथ, मेरे दिल की तरह
कांपते हैं, जब मैं
उन सलवटों को अपने भीतर समेटती हूं


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Leave a Reply