मैं कवि हूँ

मैं कवि हूँ ,
भावना लिखता हूँ
बोध संग गढ़ता हूँ
प्रतिकार-अधिकार के लिए
अस्त्र बन उभरता हूँ
राह सुलभ करने का
हुनर भी जानता हूँ
राहगीर से मिलता जब भी,
उनकी तकलीफ़ को स्याही बना
पन्नों पर उकेरता भी हूँ
पथ से जो विपरीत होते ,
उनके लिए पथिक भी हूँ
प्रदर्शन भी हूँ,प्रदर्शक भी ,
उम्मीदों को जगाना भी
जानता हूँ
हँसी को भी गढ़ता हूँ
दर्द को भी अपना
समझता हूँ
खिलाफ़ रहता हूँ अन्याय के
न्याय के लिए लड़ता भी
प्रेम से भी नाता
रखता हूँ
कभी -कभी उस संग
भी जीता हूँ
मैं कवि हूँ

नवीन आशा

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

अपहरण

” अपहरण “हाथों में तख्ती, गाड़ी पर लाउडस्पीकर, हट्टे -कट्टे, मोटे -पतले, नर- नारी, नौजवानों- बूढ़े लोगों  की भीड़, कुछ पैदल और कुछ दो पहिया वाहन…

Responses

New Report

Close