मैं जुगनू हूँ दोस्त

मैं जुगनू हूँ दोस्त

अन्धेरा होकर भी अन्धेरा होता नहीं मेरे घर में,

मैं जुगनू हूँ दोस्त रौशनी अपने साथ रखता हूँ।।

राही (अंजाना)


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

1 Comment

Leave a Reply