मैं तो बिल्कुल बच्चा था ***********************

जब कागज का नाव बनाया
मैं तो बिल्कुल बच्चा था।
तन का थोड़ा कच्चा था
पर दिल का बड़ा ही सच्चा था।।
जब कागज का नाव बनाया ….
पतंग बनाया कागज का
और एक जहाज भी कागज का।
कार बनाया ट्रक बनाया
ट्रैक्टर ट्राली भी था कागज का।।
बिन ईंधन के चलते थे सब
सोचो कितना सब अच्छा था!
जब कागज का नाव बनाया….
*****बाकलम****
बालकवि पुनीतकुमार ‘ऋषि ‘
बस्सी पठाना ( पंजाब)


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

भोजपुरी चइता गीत- हरी हरी बलिया

तभी सार्थक है लिखना

घिस-घिस रेत बनते हो

अनुभव सिखायेगा

8 Comments

  1. Sandeep Kala - December 27, 2020, 2:56 pm

    Very nice sir

  2. Geeta kumari - December 27, 2020, 5:54 pm

    बहुत सुंदर बाल कविता है

  3. Pragya Shukla - December 27, 2020, 5:58 pm

    बचपन की सुंदर कविता
    पूरा बचपन ही आँखों के सामने घूमने लगा

  4. BHARDWAJ TREKKER - January 3, 2021, 12:06 pm

    बहुत सुन्दर

  5. BHARDWAJ TREKKER - January 3, 2021, 12:07 pm

    Very nyc

Leave a Reply