मोती

सागर में मोती मिलें,
गहरे तल में खोज
किनारों पर तो बस रेत मिले,
चाहे जा बैठो रोज़ …..

Related Articles

मृगतृष्णा

रेत सी है अपनी ज़िन्दगी रेगिस्तान है ये दुनिया, रेत सी ढलती मचलती ज़िन्दगी कभी कुछ पैरों के निशान बनाती और फिर उसे स्वयं ही…

2020—–21

आती जाती हैं ये लहरें, सिर्फ निशां छोड़ जाती है रेत के ऊपर हर पल नयी, कहानी ये लिख जाती है टकराकर किनारों से, हर…

Responses

  1. सागर में मोती मिलें,
    गहरे तल में खोज
    वाह वाह, यही तो आपकी लेखनी की प्रखरता है। सैल्यूट

New Report

Close