मोर नजर

तै कहूँ जा
मोर आँखि के आघू म रैबे
भले तोला लागहि कोनो नई देखत हे
पर तय का जानिबे
मोर नजरे नजर म झूलत रथस
कभू मोर पीठ म छुरा झन घोपबे
प्रेम म कैबे त अपन जीव दे दह
अउ सीना जोरी करबे त
जी ले लह
काबर कि
तै मोर आँखि के आघू म हस
सबे दिन मोर नजर म हस


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

3 Comments

  1. Pragya Shukla - June 29, 2020, 4:00 pm

    👏👏

  2. Abhishek kumar - July 10, 2020, 11:01 pm

    👌👌

  3. Satish Pandey - July 11, 2020, 1:27 pm

    Nice

Leave a Reply