मोर पखा

मोर पखा

मोर पखा सिर धरने वाले ।
उंगली पर गिरी रखकने वाले ।
है कान्ह हे नंद दुलारे हे यशुमति के प्यारे।
कृष्णा, मोहन , श्याम सब हैं तेरे नाम
द्वारिका, मथुरा , वृंदावन हैं तेरे धाम ।
हे मेरे प्यारे ये जान, जिगर , दिल, है सब , दिलवर हे तेरे नाम।

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

9 Comments

  1. महेश गुप्ता जौनपुरी - October 2, 2019, 7:59 pm

    वाह बहुत सुंदर रचना

  2. राम नरेशपुरवाला - October 2, 2019, 8:00 pm

    Jai ho banke bihari

  3. Shivam Tomar - October 2, 2019, 8:01 pm

    धन्यवाद श्री मान जी

  4. NIMISHA SINGHAL - October 2, 2019, 10:58 pm

    Jai Krishna

  5. Poonam singh - October 3, 2019, 12:25 pm

    Nice

  6. महेश गुप्ता जौनपुरी - October 4, 2019, 9:15 am

    वाह बहुत सुंदर रचना

  7. nitu kandera - October 4, 2019, 10:18 am

    Nice

Leave a Reply