मोहब्बत की कहानी

धीरे-धीरे लौ जलती रही,
धीरे-धीरे शमा पिघलती रही
परवाना दूर से ही मचलता रहा,
हर मोहब्बत की कहानी है यही

*****✍️गीता


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

8 Comments

  1. Pragya Shukla - November 20, 2020, 9:59 pm

    Awesome💚💚💚

  2. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - November 21, 2020, 8:21 am

    उत्तम

  3. Satish Pandey - November 21, 2020, 9:53 am

    बहुत सुंदर अभिव्यक्ति

    • Geeta kumari - November 21, 2020, 9:57 am

      बहुत बहुत धन्यवाद सतीश जी 🙏🙏

  4. SANDEEP KALA BANGOTHARI - November 24, 2020, 8:07 am

    VERY good

Leave a Reply