“मोहब्बत हो गई”

मुझे उनसे बहुत मोहब्बत हो गई,

अरे ये क्या कयामत हो गई,

रातों की नींदें उड़ गई,

दिन का चैन खो गया,

मेरे दिल की तारें उनके दिल से जुड़ गई,

हर रोज मेरी आंखे उनकी राह देखती है,

और मन मे हर रोज एक नई किरण बनती है

खुदा भी एक बार महरबानी हो जाए,

और कबूल कर ले मेरी ये पुकार तो

खुल जायेंगा अपने ये नसीब

जब होंगे मेरा Gugu मेरे करीब………….

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

3 Comments

  1. Antariksha Saha - August 16, 2019, 11:18 pm

    Kya baat

  2. Anu Mehta - August 28, 2019, 2:26 pm

    🙂 🙂

Leave a Reply