ये इश्क है

कोई दीवाना कहता है हमको, कोई पागल करार देता है
ये इश्क है महरबान हमपर, हरपल बेशुमार देता है

Related Articles

करार

किसी की जीत या किसी की हार का बाजार शोक नहीं मनाता। एक व्यापारी का पतन दूसरे व्यापारी के उन्नति का मार्ग प्रशस्त करता है।…

Responses

New Report

Close