योग गीत – करो निरोग काया |

21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस
की हार्दिक बधाई
योग गीत – करो निरोग काया |
ये योग साधना की है अजीब माया |
कभी बचाए कोरोना कभी करे निरोग काया |
कपालभाती और प्राणायाम की क्या तारीफ करे |
कर अनुलोम बियोम सांस अंदर बाहर करे |
करे मजबूत दिल पेट रोग जड़ से है भगाया |
कभी बचाए कोरोना कभी करे निरोग काया |
करो सूर्य नमस्कार शुबह हर अंग खिलाये |
करे सुंदर तनमन मानव मंद मुसकाए |
लगे बदन जैसे खिली धूप है नहाया है |
कभी बचाए कोरोना कभी करे निरोग काया |
योग ही ऐसा साधन जब चाहो तब कर लो |
नए पुराने रोगो जड़ से ही खतम कर लो |
चलो कर ले सब योग रोग कर लो सफाया |
कभी बचाए कोरोना कभी करे निरोग काया |
देव ऋषि मुनि नित्य योग किया करते थे |
बिन दवा उपचार के निरोग रहा करते थे |
देख योग की महिमा सारे विश्व ने अपनाया |
कभी बचाए कोरोना कभी करे निरोग काया |
श्याम कुँवर भारती (राजभर )
कवि/लेखक /समाजसेवी
बोकारो झारखंड ,मोब 9955509286

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

कोरोनवायरस -२०१९” -२

कोरोनवायरस -२०१९” -२ —————————- कोरोनावायरस एक संक्रामक बीमारी है| इसके इलाज की खोज में अभी संपूर्ण देश के वैज्ञानिक खोज में लगे हैं | बीमारी…

Responses

      1. जंग का ऐलान कविता पर कमेंट करें

New Report

Close