रंग भरी है जिन्दगी (कुंडलिया)

रंग भरी है जिन्दगी, रंगों में रह मस्त,
कष्ट से भी खोज खुशी, कभी न होगा पस्त,
कभी न होगा पस्त, समय रंगीन बनेगा,
मन में खिलता रंग, तुझे प्रवीण करेगा,
कहे सतीश होली में पुलकित कर हर अंग,
जहां न अब तक लगा, वहां तू लगा ले रंग।
—— डॉ0 सतीश चंद्र पाण्डेय,

Related Articles

Responses

  1. रंग भरी है जिन्दगी, रंगों में रह मस्त,
    कष्ट से भी खोज खुशी, कभी न होगा पस्त,
    ************वाह सर होली के आने से पूर्व ही होली की कविता,सकारात्मक दृष्टिकोण को अपनाने की सुंदर सलाह देती हुई कवि सतीश जी की बहुत सुंदर छंद बद्ध रचना

  2. होली के त्यौहार पर बहुत सुंदर छंद वाली कविता पाण्डेय जी, बहुत खूब

New Report

Close