रात बीती

रात बीती तारे गिनते
और छाई खुमारी
बेखयाली में भी हम
तुझको बन हवा छू आये

Related Articles

Responses

New Report

Close