रामायण

पढ़कर रामायण का हिंदी अनुवाद
पाखंडी भी खुदको विद्वान समझते है
भड़काते लोगो को और कहते
हम रामायण को पढ़ते है.

रामायण का पाठ ही
पतितो को पावन कर दे
बुराई मिटा दे मन की
मन में राम नाम को भर दे.

राम नाम से पत्थर भी तिर जाये
ये तो सबको पता है
जितना सम्मान राम को मिला
क्या भगवान बाल्मीकि को भी मिला है?

ऊंच नीच, मार काट में
धर्म ही आज खो गया है
लिखी जिसने रामायण
अब वो ही अपवित्र हो गया है.

आसरा मिला सीता माँ को
तुम्हारे ही अशीष तले
लव कुश को शिक्षा मिली
तुम्हारे सहारे हम भी पले
प्राण जाये पर
रघुकुल की रीति यूहीं चले.

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

8 Comments

  1. राम नरेशपुरवाला - October 20, 2019, 5:36 am

    सुन्दर चित्रण

  2. Kandera - October 20, 2019, 5:57 am

    Nice

  3. NIMISHA SINGHAL - October 20, 2019, 10:22 am

    Sahi kha

  4. Poonam singh - October 20, 2019, 4:55 pm

    Good

  5. Sudesh Ronjhwal - October 21, 2019, 4:19 pm

    वाह

  6. Ishwari Ronjhwal - October 22, 2019, 12:55 pm

    Kya bat h

  7. महेश गुप्ता जौनपुरी - October 25, 2019, 5:34 pm

    वाह बहुत सुंदर

Leave a Reply