*वही एहसास*

थकान नहीं मुझे,आराम चाहिए
तू दूर नहीं, मेरे पास चाहिए
आंख लग जाए आज जी भर के मेरी,
मां, तेरी गोदी का वही एहसास चाहिए..

*****✍️गीता


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

6 Comments

  1. Pragya Shukla - November 9, 2020, 8:16 pm

    बहुत ही सुंदर पंक्तियां हैं दी माँ के लिए

    • Geeta kumari - November 9, 2020, 8:35 pm

      हां प्रज्ञा ,सच कहा । समीक्षा के लिए बहुत बहुत धन्यवाद ।मां की गोदी सब थकान दूर कर देती है।

  2. vivek singhal - November 10, 2020, 7:44 pm

    Waah

  3. Suman Kumari - November 10, 2020, 10:27 pm

    बहुत सुन्दर

Leave a Reply