विप्लब

जनता के बारूद को आग से मत ललकार
शमा को बुझने ना देंगे ज़ुल्मी रात जितनी भी कोहराम मचाए

माना विपक्ष धनवान बलवान है
पर इतिहास साक्षी है
जब भी सब जन विप्लब का रास्ता लेते है
उनके एक आवाज़ ही तख्तता पलट करने मे शक्छम होती है

Related Articles

अपहरण

” अपहरण “हाथों में तख्ती, गाड़ी पर लाउडस्पीकर, हट्टे -कट्टे, मोटे -पतले, नर- नारी, नौजवानों- बूढ़े लोगों  की भीड़, कुछ पैदल और कुछ दो पहिया वाहन…

Responses

New Report

Close