विषाक्त है आज परिवेश देख।

✍?(गीताज) ?✍
———$——

विषाक्त है आज परिवेश देख।
आक्रोश मे सुप्त आवेश देख।।
कण कण मे है गुस्सा
आलम मे नव क्रोध है
धरती कुम्हला रही
क्षण मे चढा अवरोध है
पल बना है द्रोही खाके ठेस देख।
विषाक्त है आज परिवेश देख ।।
नजारो मे अहम तीव्र
बचनो मे झूठ फरेब
चापलूसी चलन मे तेज
रौब मे अकड ऐठ ऐब
दिखावा काढ़े बैठा है भेष देख ।
विषाक्त है आज परिवेश देख ।।
मानवता है पीड़ित
इंसानियत है दुखी
मानव है आज वेबश
वासना है भयावह भूखी
रौद्र मे रोष की भावना शेष देख ।
विषाक्त है आज परिवेश देख ।।

श्याम दास महंत
घरघोडा
जिला-रायगढ(छग)
✍??????✍
(दिनांक -13-04-2018)


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

1 Comment

  1. राही अंजाना - July 31, 2018, 10:35 pm

    Waah

Leave a Reply