वो तेरे जीवन की परी (भाग 2)

प्रभु ने कुछ और भी बाते समझाई थीं
20-25 साल हुए थे,नन्हे फ़रिश्ते ने कुछ भुलाई थीं
किसी -किसी के याद रही,
पर कोई फरिश्ता भूल गया
प्रभु ने कुछ यूं समझाया था ………
फ़िर आंखों पर चश्मा चढ़ जायेगा
उसके बालों में , चांदी आ जाएगी
फ़िर भी तेरे “मां” कहने पर
वो पास तेरे आ जाएगी
लाठी का सहारा जब लेने लगे
तू उसकी लाठी बन जाना
काम तेरे कर ना पाएगी, पर
काम तेरे बहुत वो आएगी
इस दुनियां से जाते – जाते भी
तुझको दुआ दे जाएगी
इस दुनियां से जाते – जाते भी
तुझको दुआ दे जाएगी ……
वो तेरे जीवन की परी, वो तेरे जीवन की परी..
……✍️ गीता……


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

अचरज है कैसे

मिठास दूँगा

वन-सम्पदा

मृगतृष्णा

25 Comments

  1. Satish Pandey - September 21, 2020, 6:06 pm

    वाह क्या बात है गीता जी। आपने मां का यथार्थ स्वरूप प्रस्तुत करने में पूर्ण सफलता प्राप्त की है। वास्तव में मां होती ही ऐसी है। आपकी इस लेखन क्षमता को सादर अभिवादन। खूब लिखते हैं वाह

  2. Geeta kumari - September 21, 2020, 6:38 pm

    आपकी टिप्पणी और प्रशंसा का हार्दिक आभार सतीश जी ।
    कवि को सुंदर और प्रेरक समीक्षा मिलती रहें तो लेखन में उत्साह वर्धक होता है । बहुत बहुत धन्यवाद सर 🙏

  3. Chandra Pandey - September 21, 2020, 6:54 pm

    बहुत खूब, शानदार

    • Geeta kumari - September 21, 2020, 7:07 pm

      आपकी शानदार समीक्षा के लिए बहुत बहुत धन्यवाद चंद्रा जी🙏

  4. Devi Kamla - September 21, 2020, 6:56 pm

    बेहतरीन लिखा आपने वाह

    • Geeta kumari - September 21, 2020, 7:08 pm

      सुन्दर समीक्षा हेतु आपका हार्दिक धन्यवाद एवम् आभार कमला जी🙏

  5. Pragya Shukla - September 21, 2020, 7:38 pm

    जबरदस्त वात्सल्य

    • Geeta kumari - September 21, 2020, 7:45 pm

      ज़बरदस्त वाला शुक्रिया प्रज्ञा जी

  6. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - September 21, 2020, 10:30 pm

    अतिसुंदर भाव

    • Geeta kumari - September 22, 2020, 6:49 pm

      बहुत बहुत शुक्रिया आपका भाई जी 🙏

  7. Rishi Kumar - September 21, 2020, 11:11 pm

    मातृ शक्ति कि जय हो

  8. Piyush Joshi - September 22, 2020, 10:58 pm

    बहुत खूब

  9. Isha Pandey - September 23, 2020, 8:09 am

    Atisundar

  10. Indu Pandey - September 23, 2020, 9:48 am

    BAHUT SUNDAR RACHNA GEETA JI

  11. MS Lohaghat - September 23, 2020, 12:38 pm

    Very Nice Poem

  12. प्रतिमा चौधरी - September 23, 2020, 4:40 pm

    बेहतरीन

  13. Seema Chaudhary - September 24, 2020, 9:22 pm

    Very beautiful

Leave a Reply