वफ़ा

‘हम तो समझ बैठे थे, ये काँटो की वफ़ा है,
पर शुक्र हैं कि कभी नंगे पैर न थे..’

– प्रयाग

Related Articles

Responses

+

New Report

Close