शयम

बरस रहा है पतझड़ हम पर
टूट रहे हैं पल्लव
आजाओ अब शीघ्र श्याम
बनकर तुम बहार नव


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Leave a Reply